आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

सोमवार, 13 जुलाई 2015

होइस बिहान तंहा हम धरेन धियान ..

होइस बिहान तंहा हम धरेन धियान ..


आज अकास ल मूंदे बादर। 

बिन बरसे झन जाबे बादर ।।


देव गनेस सुनौ जी अरजी।

समझावौ बादर ला सरजी।।


नाना किसम किसम जंजाला।

चर्चा चारों मुड़ा घोटाला।।


मरत जात छोटे आरोपी।

बड़का बइठे पहिरे टोपी।।


राजा संग परजा घलो, कहिथें स्वारथ साध।

बलि कतको चढ़ जात हें, किस्सा हवै अगाध।।

1 टिप्पणी:

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, फ़िल्मी गीत और बीमारियां - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !