आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

गुरुवार, 8 जुलाई 2010

कुछ अटपटे कुछ चटपटे दोहे

(१)
ब्लॉग लेखन से क्या जुड़े, नित उमड़त रहत विचार
जब तब फुरसत पाइके, लिख डारत आखर चार
(२)
ड्यूटी के लिये निकल पड़े, पहुंचे रेल्वे स्टेशन  
गाड़ी की लेट लतीफ़ी, लावे दिमाग मे टेंशन
(३)
प्लेट फ़ॉर्म मे टहल रहे, उपजत रह्यो खयाल
शरीर स्वस्थ कैसे रखें, कैसे ठीक हो मन का हाल
(४)
प्रात खाट नित छोड़ि के, नित्य कर्म निपटाय
योग करें, कसरत करें, या पैदल टहला जाय
(५)
भोर वायु शुद्ध रहत है, जानत यह सब लोग
करें सेवन इसका सभी, दूर भगावे रोग
(६) 
(रात मे)
मन विचलित हो तनिक भी, पढ़ें उबाउ किताब
दुइ चार पन्ने पल्टाइये, आयेगी नींद जनाब
(७)
ज्ञान सुमन सुरभित करे, धर्म ग्रन्थ साहित्य
पठन मनन वाचन करें, अरु चिंतन लेखन नित्य
(८) 
और अंत में
केवल इतना लिख सका, करुं जरा विश्राम
शुभ रात्रि स्वीकार हो मेरे प्यारे ब्लॉग आवाम 
जय जोहार...........

15 टिप्‍पणियां:

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

पुरे दिन की दिनचर्या समझा दी...

सुंदर शब्दों में ढले उम्दा दोहे.

Maria Mcclain ने कहा…

You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मन विचलित हो तनिक भी, पढ़ें उबाउ किताब
दुइ चार पन्ने पल्टाइये, आयेगी नींद जनाब|

बहुत बढ़िया दोहे....और यह तो बिलकुल सटीक...

आचार्य उदय ने कहा…

अतिसुन्दर।

निर्मला कपिला ने कहा…

उमडत घुमडते विचार से हमे दिया समझाये
अच्छे जीवन को जीने का ढंग दिया बतलाये
बहुत सुन्दर दोहे हैं धन्यवाद।

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन...एक हमारी ओर से ले लें:


प्रातः खाट नित छोडि के, मन में यही विचार
नित्य कर्म पहले करें या पहले टिप्पणी चार.

ललित शर्मा ने कहा…

लटपटे झटपटे अटपटे दोहे कहे चार
झटपट मन में करते उर्जा का संचार


बने चलत हे-घुटना काम करत हे।

जोहार ले

शिवम् मिश्रा ने कहा…

बेहद सुन्दर दोहे है भाई जी !!
जय जोहार !

arvind ने कहा…

ब्लॉग लेखन से क्या जुड़े, नित उमड़त रहत विचार
जब तब फुरसत पाइके, लिख डारत आखर चार.......bahut badhiyaa dincharyaa...
(२)

shikha varshney ने कहा…

वाह एकदम सटीक दोहे हैं..

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

भई वाह्! बहुत खूब.....
मन आनन्दित हो गया आपके अटपटे नहीं बल्कि चटपटे दोहे बाँच कर....

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
10.07.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह 06 बजे) में शामिल करने के लिए इसका लिंक लिया है।
http://chitthacharcha.blogspot.com/

M VERMA ने कहा…

वाह --- बहुत सुन्दर

ललित शर्मा ने कहा…

उम्दा पोस्ट

आपके ब्लाग की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर भी है-क्लिक करें

बेचैन आत्मा ने कहा…

यह भी खूब रही.