आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

मंगलवार, 20 जुलाई 2010

कौन नहीं करेगा निछावर इस पर अपना प्यार

                 (१)                                                                         
निष्कपट निश्छल  चेहरा 
हिलते हैं, ओष्ठ अधर दोनों 
न बोल पाते हुए भी 
अपनी प्यारी सूरत औ आँखों के भावों से
कह जाता है सब कुछ
हंसता है हंसाता है, रोता है रुलाता है  
खींच लेता है सारी दुनिया अपनी ओर 



कौन नहीं करेगा 


निछावर
इस पर अपना प्यार 
नही रहता कोई  भेद भाव; 
उंच- नीच,  अमीर- गरीब का 
क्षण भर के लिए ही सही. 
(2)
गुजरता है पल पल परिवर्तन के दौर से 
करवटें बदलना, पेट के बल सोना (पलटी मारना} 
घुटने के बल चलना,  धीरे धीरे रेंगना 
बोलना भी सीख गया है, 
तोतली बोली हंसाती है सबको  
रट्टू तोता होता है   
समझ नहीं है कौन क्या बोल रहा है
दुहराता है सुने गए शब्द 
क्या मालूम उसे यह गन्दी  गाली है 
शुरू होती  है माँ- बाप  की परीक्षा
उसे अच्छे संस्कार देने की.
(3)
कदम रखता है स्कूल की दहलीज पर
छिन जाती है आजादी 
दिन भर घूम घूम कर 
खेलने की, धमाचौकड़ी मचाने  की.
लद जाता है बस्ते की बोझ से
(४)

शुरू हो जाती है प्रतिस्पर्धा की भावना
पांचो अंगुलियाँ एक समान नहीं होती
फिर भी बच्चों से ज्यादा रहते हैं 
पालक परेशान, डूबे रहते हैं इस सोच में 
कहीं क्लास में बच्चा पिछड़ तो नहीं रहा  
घट तो नहीं रही है  उनकी शान
बालक की क्षमता है तो कोई बात नहीं
वरना बच्चे के मन में  जड़ जमाता  अवसाद 
बना लेता है   अपना ग्रास 
उसकी  सारी खुशियों को 
दिल दहल जाता है जानकर परिणति इसकी; 
दिमागी संतुलन खो जाना या अपनी जान गँवा बैठना.
(५) 
मिल चुकी है पढ़ाई से मुक्ति 
येन केन प्रकारेण ख़तम हुआ 
अर्थोपार्जन करने के साधन 
जुटाने का दौर, जुगाड़ लेता है 
अपने रहने का ठौर   
गुजरती है  जिन्दगी आलिशान बंगलों में  
कहीं झोपडी में ही सही 
पसीने की गाढ़ी कमाई से कर रहा है
अपना जीवन यापन मिल रहा है खाने
को दो जून की रोटी,  मन ही मन परमपिता 
परमेश्वर से करते रहता है विनती 
कोई छीन न  ले थाली से खाने के लिए 
उठाया हुआ कौर. 
इन तमाम घर गृहस्थी के चक्कर में फंसे 
रहकर  कभी फरमाया है आपने गौर
क्या अच्छा होता फिर से बन जाते हम बच्चे 
विचरते उस दुनिया में जहाँ न कोई बेईमानी है 
न मक्कारी है फरेबी है न  भ्रष्टाचार की बीमारी  है 
जय जोहार......

13 टिप्‍पणियां:

वाणी गीत ने कहा…

क्या अच्छा हो जाता फिर से बच्चे बन जाते ...
बड़ों की दुनिया में रहकर ख़याल यही बार बार आता है ...!
सुन्दर कविता ...!

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

...जबरदस्त अभिव्यक्ति, बधाई !!!

उठा पटक ने कहा…

बहुत बढिया!

arvind ने कहा…

कौन नहीं करेगा
निछावर
इस पर अपना प्यार .....सुन्दर कविता ...!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सटीक और सुन्दर अभिव्यक्ति...जैसे जैसे बड़े होते जाते हैं निश्छलता खत्म होती जाती है....

वन्दना ने कहा…

काश ऐसा हो पाता…………………।बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत प्यारी प्यारी रचनाएँ.

girish pankaj ने कहा…

khushi hui, ki aapki kavitaaen bhi arthvan hain. sundar hai. prerak hain. badhai.

Akhtar Khan Akela ने कहा…

bchpn hr gm se begaanaa hota he jnaab .akhtar khan akela kota rajsthan

राजकुमार सोनी ने कहा…

रचना पढने के पहले ही बच्चों को तस्वीर देखकर मन प्रसन्न हो गया
सचमुच एक मुस्कुराता बच्चा
हमारे पूरे दिन को अच्छा कर देता है
जो बच्चा रोता है वह भी दिन खराब नहीं करता
दिन उस आदमी से खराब हो जाता है जो स्वार्थ के चलते अलसुबह दरवाजे पर खड़ा हो जाता है
आपने बहुत अच्छा लिखा है भाईसाहब. मजा आ गया.

Rohit Jain ने कहा…

ज़बरदस्त... लाजवाब

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

सचमुच, यह है ही इतना प्यारा।
………….
संसार की सबसे सुंदर आँखें।
बड़े-बड़े ब्लॉगर छक गये इस बार।

ललित शर्मा ने कहा…

देर से आने के लिए क्षमा चाहेगें।
दु दिन ले घाल दिस-नेवता खवई हाँ

बने लिखे हस दाऊ,सुंदर सुंदर बालक भगवान के फ़ोटो देख के मन प्रसन्न होगे।

खिचरी खवई चलत हे।

जोहार ले