आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

बुधवार, 28 जुलाई 2010

तीन दिनों की बारिश

तीन  दिनों की बारिश

प्रांत को जलमग्न किया 
किसान हुए कहीं खुश
झुग्गी  झोपडी के वासिंदों को  
क्यों तुने अर्धनग्न किया
(२) 
मांग बहुत है पानी की 
है यह किसी से छुपा नही
पर यह क्या!  तीन दिनों से 
हो रही बारिश 
जन जीवन हुआ अस्त व्यस्त
बीच बीच में क्यों रुका नहीं
(३)
आया सावन झूम के 
बिदा हुआ आषाढ़ 
जल स्तर थोड़ा बढ़ो गयो
नदी नालों में आयो बाढ़ 
नदी में आयो बाढ़,  उतर जइयो---
प्राकृतिक आपदाओं, भूखमरी,
बेरोजगारी, घोटालों,  भ्रष्टाचारों
इनकी बनी रहे जो बाढ़,
क्या करियो भइयो?????
जय जोहार .......

15 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

क्या करियो भईया....

बस!

जय जोहार!!

ललित शर्मा ने कहा…

जय हो

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

मनोज कुमार ने कहा…

----- कविता काफी अर्थपूर्ण है, और ज़्यादा समकाली।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

जय जोहार!!

arvind ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।जय जोहार!!

निर्मला कपिला ने कहा…

बडिया है । आभार।

अजय कुमार ने कहा…

अच्छी रचना ।

shikha varshney ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सटीक और सार्थक लेखन....

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

आप की रचना 30 जुलाई, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
http://charchamanch.blogspot.com

आभार

अनामिका

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

हम तो इतना ही कहेंगे- जय जोहार।
…………..
पाँच मुँह वाला नाग?
साइंस ब्लॉगिंग पर 5 दिवसीय कार्यशाला।

त्रिपुरारि कुमार शर्मा ने कहा…

इस बात को आपसे बेहतर कौन समझ सकता है ?

शुक्रिया !

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मंगलवार 3 अगस्त को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ .... आभार

http://charchamanch.blogspot.com/

नीरज गोस्वामी ने कहा…

वाह भैय्या वाह..बहुत रोचक रचना...देर से देखने पर क्षमा...लेकिन क्या खूब लिखा है आपने...बधाई..
नीरज