आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

शनिवार, 19 अक्तूबर 2013

दुहाई प्रजातंत्र की

मतदाता और उम्मेदवार दोनों, चुनाव आयोग का निष्पक्ष एवं स्वच्छ चुनाव कराने का संकल्प पूरा करने में अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करें, इस प्रजातांत्रिक देश की चुनाव प्रक्रिया की दुहाई अनेकों देश दे रहे हैं ....गौर फरमाइयेगा:
देत दुहाई प्रजातंत्र
की कहें भारत देश महान
फिकर प्रजा की किसको कितनी गये हैं जन जन जान
आया त्योहारों का मौसम, दशहरा दीवाली
समर चुनाव में कूद रहे हैं बड़े बड़े बलशाली
निर्णायक जी सख्त हैं, खातिर निश्पक्ष चुनाव
भय दबाव प्रलोभन जैसे नहीं चलेंगे दांव
हिस्से चुनाव तंत्र के कर्मचारी अधिकारी
विधि विधान से निभा रहे सब अपनी जिम्मेदारी
मुखिया ऐसा छांटिए, हो जिनमे सद्भाव
जनता का दुःख हर सके, करे न गहरा घाव
                                      

जय जोहार.........

2 टिप्‍पणियां:

Kuldeep Thakur ने कहा…

आप की ये सुंदर रचना आने वाले सौमवार यानी 21/10/2013 कोकुछ पंखतियों के साथ नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है... आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है...
सूचनार्थ।

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

@कुलदीप ठाकुरजी .....बहुत बहुत शुक्रिया ...