आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

रविवार, 4 सितंबर 2016

दौलत

दौलत

चाह दौलत की हमें भरपूर है
राह कैसी भी रहे मंज़ूर है
ग़म नहीं हक दूसरों का छिन रहा
आज तो इंसानियत मज़बूर है

जय जोहार……

सूर्यकांत गुप्ता..
सिंधिया नगर दुर्ग(छ्त्तीसगढ़)

कोई टिप्पणी नहीं: