आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

बुधवार, 16 जून 2010

थोड़ी पचक गई थी तोंद, उसे बढ़ाया

आज हो गया हूँ "विचार शून्य"                                    
कार्यालय से आते ही अपनी तोंद पे नजर दौड़ाया
आवाज सुनाई दिया, भूख लगी है,
भोजन बना नहीं था, पैकेट में रखी मूंगफल्ली चबाया.
देर नहीं लगी भोजन बनने में, थाली लगने में
थोड़ी पचक गई थी तोंद,  उसे बढ़ाया
सोच में डूबा हूँ, क्या लिखूं?
ख़बरें वही हैं; नेताओं के आरोप प्रत्यारोप,
चोरी,  डकैती,  लूटपाट, हत्या, नगर में
आवागमन सुगम बनाने के लिए बने हुए
रेलवे अन्डर ब्रिज की दीवारों का  बारिस के पहले थपेड़े में ही ढहना
किस्से ही किस्से हैं, इन सबका क्या कहना
मान लिया है सभी ने इन बातों को जीवन का अभिन्न अंग
जब तक जियेंगे, पड़ेगा हमें इन्हें सहते रहना.
नोट:- अभी लगता है ब्लॉग का मानसून नहीं आया है. फुहारें दिखाई पड़ती हैं. मूसलाधार बारिश नहीं.(हो सकता है बारिश वाले इलाके में हम जाते न हों).
जय जोहार........

13 टिप्‍पणियां:

दिलीप ने कहा…

sahi kaha sir...fuhaarein hi hain chitput boondabaandi hoti hai fir aasmaan saaf...haan lekin kabhi kabhi bemausam ajeeb se chakrvaat aa jaate hai...jaati dharm ke baadlon se...lekin mujhe pooar yakeen hai baarish jaldi hi hogi...

Sanjeet Tripathi ने कहा…

are bhaiya tond ko sambhalne ka, badhi to pahle se hai na, aur badh gai to fir sambhale na sambhlegi saheb... ye aisi cheej jo badhne ke baad kam nai hoti....;)

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

ब्लागिया मानसून तो बारोह महीने छाया रहने वाला है गुप्ता जी..अभी भी किसी न किसी कोने में छींटे पड ही रहे होंगें :)

आचार्य जी ने कहा…

बहुत सुन्दर।

Tarkeshwar Giri ने कहा…

Bhukhe Bhajan na hoy gopala

'उदय' ने कहा…

...क्या बात है ... शानदार लयबद्ध कविता, बहुत बहुत बधाई!!!

'उदय' ने कहा…

... ले भुला गय रहेंव गा ... जय जोहार!!!

Amitraghat ने कहा…

बहुत बढ़िया जनाब.."

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

बढ़िया बात सूर्यकांत जी , अभी रुक-रुक कर गरज के साथ छीटे पड़ेंगे !

arvind ने कहा…

ब्लॉग का मानसून नहीं आया है.
फुहारें दिखाई पड़ती हैं.
मूसलाधार बारिश नहीं.
हो सकता है बारिश वाले इलाके में हम जाते न हों
जय जोहार........ aapka note dekhiye kitani maarmik kavita hai......ha ha ha.....

मनोज कुमार ने कहा…

ताजा हवा के एक झोंके समान

mridula pradhan ने कहा…

good.

शरद कोकास ने कहा…

हमे मज़ा नही आया ....