आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

मंगलवार, 15 जून 2010

अंग्रेजी के शब्द और उच्चारण

अंग्रेजी के शब्द और उच्चारण 
मैं आज बैठे बैठे सोच रहा था विदेशी भाषा अंग्रेजी, जो आज हमारी मातृभाषा से भी ज्यादा लोकप्रिय और प्रतिष्ठा कि वस्तु बन गई है, उसका उच्चारण हम किस तरह से करते हैं. जिव्हा सही ढंग से उच्चारित नहीं कर पाती उन शब्दों को; मसलन यदि 'ज़' बोलना है तो भी 'ज' ही बोला जाता है. उदाहरण के बतौर हमने कईयों के मुख से is को 'इज' कहते सूना है न कि इज़. हमारी क्षेत्रीय बोली छत्तीसगढ़ी की तो बात ही कुछ और है.  हमने तीन शब्द लिया है अंग्रेजी का (1)  closure (2) exposure (3) pleasure  जिन्हें हम हिंदी कहें या छत्तीसगढ़ी में कुछ इस तरह उच्चारित करेंगे; (इ) क्लोजर (२) एक्सपोजर (३) प्लेजर. इन तीनो में शब्द 'जर' विद्यमान है. और 'जर' के मायने में हमारी छत्तीसगढ़ी में होता है 'जलना' या 'जल'/तप या खप. और इन तीनो शब्दों के अति होने से याने(१) ज्यादा निकटता (२) ज्यादा अपने आप को प्रकाश में लाना और (३) ज्यादा खुशी का परिणाम वही होता है 'जर'. भाई मन में आया लिख बैठा अपने अपने हैं विचार......... और .....जय जोहार.

7 टिप्‍पणियां:

दिलीप ने कहा…

ye to wahi baat ho gayi...aapke bete ne khowledge ko kanauladge bola...are mere bete ke fature(future) ka kya hoga...jay johaar...

indli ने कहा…

नमस्ते,

आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

विचार बढ़िया अनोखी बात बताई आपने ..आपके विचार हमें कुछ जानकारी दे गई..धन्यवाद

आचार्य जी ने कहा…

प्रभावशाली लेखन।

( आइये पढें ..... अमृत वाणी। )

Udan Tashtari ने कहा…

जुबान है साहब!! क्षेत्र क्षेत्र से बदल जाती है.

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

सिरतोन ये, जर गे, भूर्ररी बर गे.

स्वामी बाबा ललितानंद तीर्थ जी की जय, जय जोहार.

शरद कोकास ने कहा…

जर्जर कर दिया भई