आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

शुक्रवार, 25 जून 2010

चौंकिए नहीं!!!!

बाबा, ब्लॉग जगत का हमें 
संक्षिप्त ज्ञान दे गए 
ज्ञान देकर, अंतर्ध्यान हो गए 
बाबा शायद सिद्धि प्राप्त 
करने हेतु तीर्थाटन कर रहे हैं.
जय जोहार...... 

6 टिप्‍पणियां:

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

बाबा के बिना सूना है ये संसार(ब्‍लॉग)
झटपट लगाये स्‍वामी जी का फोटू
ताकि विरोधियों के जादू मंतर का असर खतम हो

जय हो जय हो स्‍वामी 10000000000000000000000000000000000000000000001 ललितानंद जी तीर्थ महाराज की जय हो, महराज की कृपा बनी रहे.

शिवम् मिश्रा ने कहा…

संजीव जी से सहमत|

'उदय' ने कहा…

... जय जोहार!!!

ललित शर्मा ने कहा…

bane kare has maharaj la renga des,

kaiyon jhin ke aankhi gadat rahise.

vaise bhi baba man han kakhro lafada maa nai rahay.

ab pargat kare ke jarurat nai he.

ola jan de tirth yatra ma.

jay ho

johar le.

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

भाई सन्जीव, आपने सही कहा है बाबा के बिना सूना सूना लगने लगा है। हमने उनसे कहा था, प्रकट होने। इन्कार कर दिया उन्होने। लगता है रूष्ट हो गये हैं। दर असल हम पुन: स्थापित नही कर पा रहे हैं।

शरद कोकास ने कहा…

//???///