आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

बुधवार, 2 जून 2010

क्रोध पर नियंत्रण

क्रोध पर नियंत्रण का बोध हुआ कि नही (जानते सभी हैं, पर ......)
आचार्य जी के दर्शन कैसे होंगे, कौन हैं,
इस पर शोध हुआ कि नहीं,
इन्हें कहा जाय, शान्ति के उपाय
शीघ्र बताएं. वैसे क्रोध हमें है नहीं सताय
हरि ॐ तत्सत!
और चूंकि छत्तीसगढ़ी हमारी मात्री बोली है
इसलिए
जय जोहार.........

1 टिप्पणी:

ललित शर्मा ने कहा…

चतुराई चुल्हे पड़ी,घूरे पड़ा अचार

अइसने केहे हे गा दाऊ जी
अब पाछु ला तै जान

जय गंगान