आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

बुधवार, 17 नवंबर 2010

दिल्ली का लक्ष्मी नगर, श्मशान बन गया

दिल्ली का लक्ष्मी नगर, श्मशान बन गया 
(1)
ढह गई पांच मंजिलों की  इमारत
सैकडों घायल हैं, दर्जनों ने दे डाली अपनी शहादत  
या अल्लाह, या ख़ुदा ! क्या कमी रह गई थी?
क्या  कर न पाए थे ये  पूरी तेरी  इबादत ?
(२)
रह रहे थे सैकड़ों, आत्मा में  इनका 
क्या तेरा वास न था
लगता है सचमुच तू सोता रहा 
इस अनहोनी का किसी को अहसास न था 
देखते ही देखते यह इलाका कब्रिस्तान बन गया 
दिल्ली का लक्ष्मीनगर श्मशान बन गया 
ईश्वर उन सभी की आत्मा की शान्ति व उनके परिवार को इस दारुण दुःख को सहने की शक्ति प्रदान करे 
जय जोहार........

3 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ऐसे परिवारों के लिए हमारी भी प्रार्थना है कि उन्हें सहने की शक्ति मिले ...दुखद घटना ..

शरद कोकास ने कहा…

क्या कहें ऐसे हादसों पर । हार्दिक संवेदना ।

'उदय' ने कहा…

... behad dardnaak haadsaa .... vinamra shraddhaanjali !!!