आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

बुधवार, 12 नवंबर 2014

लुका गे हे जाड़

लुका गे हे जाड़ 
महिना कातिक बीत गे, जाड़ा हवे लुकाय.
अगहन कइसे बीतही, कुछू समझ नइआय.
.....जय जोहार शुभ रात्रि...

कोई टिप्पणी नहीं: