आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

बुधवार, 12 नवंबर 2014

त्यौहार और रिश्ता नाता

                                             त्यौहार और रिश्ता नाता
                                नाता रिश्ता मित्रता,  टूट कभी न जाय.
                                 होवे पर्व विशेषता, जोड़े रखता जाय..

वैसे तो बारहों महीने कोई न कोई व्रत त्यौहार हमारे देश में मनता रहा है फिर भी त्योहारों की श्रृंखला सावन मास की हरियाली से प्रारंभ हो कम अंतराल में कार्तिक पूर्णिमा तक चलते रहती है. प्रत्येक पर्व में व्यक्ति अपनी खुशहाली के साथ साथ दूसरों की खुशहाली के लिये भी दुआ मांगता है.  रिश्तों को अटूट बनाये रखने में भाई बहन का प्रमुख पर्व रक्षा बंधन और भाई दूज, वहीं पति-पत्नी के लिये करवा चौथ,  हरतालिका व्रत आदि आदि है...अतएव आयें; बैर भाव छोड़ सब साथ मिलकर प्रेम प्यार जिंदा रखते हुये पर्वों का आनंद  लेते चलें ...
जय हिंद,  जय भारत...

कोई टिप्पणी नहीं: