आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

रविवार, 14 फ़रवरी 2010

ब्लॉग जगत में डी लिट की उपाधि पायें

इस ब्लॉग जगत में हमने देखा कि "आनंद" देने वाले बहुत हैं, मसलन टिप्पण्यानन्द,  लिखन्न्यानंद वैगरह वैगरह. पर एक बात और समझ में आयी कि भाई डी लिट की उपाधि भी यहाँ मिल सकती है. यदि आप किसी ब्लॉग  के अनुसरण करता हैं और बात जमी नहीं, अपने आप को वहां से डीलिट कर दीजिये. हो गए न डी लिट.  मैं लम्बी यात्रा  से लौटने के  बाद  देखा कि मेरे ब्लॉग के तो १६ अनुसरण करता थे,  १५ हो गए. लगता है शायद किसी  को डी लिट की उपाधि यहीं से मिल गयी हो.

11 टिप्‍पणियां:

Suman ने कहा…

nice

जी.के. अवधिया ने कहा…

वाह गुप्ता जी! यह तो बहुत जोरदार बात कही आपने!

ब्लोगर के संसार की माया अपरम्पार।
डीलिट कर डी लिट भया यह इसका उपहार!!

Vivek Rastogi ने कहा…

वाह वाह क्या डी लिट ढ़ूंढा है।

संगीता पुरी ने कहा…

बढिया .. दो तीन दिन पूर्व मेरे ब्‍लॉग से भी किसी ने डिलीट की उपाधि ली है !!

Arvind Mishra ने कहा…

अच्छा अपने अनुसरनकर्ताओं को जरा मैं भी चेक कर कितने डी लिट हो गए

मनोज कुमार ने कहा…

मुझे नहीं लेनी (करनी) यह उपाधि
(डिलिट)।

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

हा हा हा हमने भी आज चार पांच ब्लॉग से अनुसरण डिलीट किया है यानी थोक में ही डी लिट की उपाधियाँ मिल गयी

ePandit ने कहा…

वाह बिना किसी मेहनत के डी लिट होने का बढ़िया तरीका।

अजय कुमार झा ने कहा…

हाय मुझे न मिल पाई अब तक डिलिट डिग्री ब्लोग वाली
अजय कुमार झा

शरद कोकास ने कहा…

कौन है भाई डीलिट की उपाधि पाने वाले उनका नाम तो बताओ ..और कहाँ कहाँ से लेने वाले है पता तो चले ?

दीपक 'मशाल' ने कहा…

koi baat nahin main aaj admission le leta hoon.. de lete fir kabhi dekh lenge.. :)
Jai Hind...