आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

शनिवार, 3 अप्रैल 2010

काय आज धर लिस मोला नवा बीमारी

 
कहाँ ले आवत हे के फेर कहाँ पहुँचावत हे ये रद्दा हा 
काय आज धर लिस मोला नवा बीमारी
मन मा आ गे हे एक बात के खुमारी 
दू ठन पोस्ट लिखे हौं,
सोचथों अतेक तो बेकार नई होही
जेमा परिस नहीं टिपीयावन दू चारी
ए बीमारी के कारण हे, देखेंव ब्लॉगवाणी जहाँ
अइसन पोस्ट घलो हा आगी(हॉट) के चर्चा म हे
जेमा आगी तो नई ये, लेकिन लिखे हे एला
जौन हा, वो मन आवें  ब्लॉग जगत के परसिद्ध नामधारी
का करबे भाई ............ का फालतू मैं पारे लगेंव गोहार
भाई हो दिन हा बदल गे हे आ गे हे शनिवार
आप जम्मो झन ला मोर जय जोहार......................

2 टिप्‍पणियां:

ललित शर्मा ने कहा…

जय जोहार जय जोहार जय जोहार
बने करत हस तै हां भैया गोहार
ये ले आ गेन टिपियाए बर दु चार

Shekhar kumawat ने कहा…

आप जम्मो झन ला मोर जय जोहार......................


shekhar kumawat


http://kavyawani.blogspot.com/