आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

रविवार, 4 अप्रैल 2010

देयर इज नो एनी बार फॉर टेलिंग लाई

छाप रहा है अपने देश का अखबार
ब्रिटिश ज्यादा झूठे हैं, बोलते हैं झूठ
दिन में औसत चार बार.
अपने देशवासियों के लिए लिखा ही नहीं
क्योंकि मालूम है हमें, झूठ बोलने   के लिए
ताल ठोंक के कह सकते हैं, हमारे यहाँ
देयर इज नो एनी बार
भाईजी कहना नहीं भूलूंगा
जय जोहार ........

4 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

जय हो।

sandhyagupta ने कहा…

Hamari to sima hi nahin hai.kya baat hai!

JHAROKHA ने कहा…

bahut hi badhiya .ati uttam lagi aapki yah post.

ललित शर्मा ने कहा…

हा हा हा
हम किसी से कम नही
हमसे ज्यादा किसी लबरा मे दम नही।:)