आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

शुक्रवार, 2 अप्रैल 2010

बस हरि हरि बोल

 आज प्रातः अखबार में देखा "समस्या दूर करने वाले बाबा को जेल" (बाबा धनी हैं ऐसा लिखा गया है और समाचार है लन्दन का). त्वरित उमड़ गया मन में विचार;
समस्या दूर करने वाले बाबा को हो गई जेल
भारत तो विख्यात है, चलने लगा विदेशों में भी
इन बाबाओं का खेल 
"पूजा"  "अर्चना" "अराधना" अरु "आरती" फिर मन्त्र 
पा जाते प्रसिद्धि ये बनकर साधक तंत्र 
मन्त्र तंत्र साधक बनकर, हो जाते है प्रसिद्ध 
बाद में "पूजा"  "अर्चना" "अराधना" ......... पर रखते हैं नजरे -गिद्ध 
कोई बात नहीं, धीरे धीरे ही सही, खुल रही है इनकी पोल 
झांसे में न आयें इनके, प्रभु करेंगे दूर समस्या,  बस हरि हरि बोल 
मित्रों, इस समाचार को आप सभी ने पढ़ा होगा फिर भी यहाँ दर्शाना उचित समझता हूँ 

लंदन अपनी तरह के पहले मामले में एक धनी बाबा को अपने अनुयायियों से हजारों पाउंड ठगने के जुर्म में 18 माह की कैद हुई है। यह फैसला आने से भारतीय मूल के बुद्धिजीवियों में खुशी की लहर है।
नीम मोहम्मद चेशायर में कथित रूप से 8.50 लाख पाउंड (करीब ५.78 करोड़ रुपए) के घर का मालिक है। उसे वोल्वरहैम्पटन क्राउन कोर्ट में बुधवार को धोखाधड़ी के 11 आरोपों में दोषी करार दिया गया। भारतीय मूल के बुद्धिजीवी ऐसे बाबाओं के खिलाफ कई वर्षों से अभियान चला रहे हैं।

इस फैसले पर खुशी जताते हुए एशियन रेशनलिस्ट सोसाइटी ऑफ ब्रिटेन के महासचिव एसडी विर्दी ने कहा, ‘हमने वैसे लोगों को चुनौती दी है जो चमत्कार से समस्याएं दूर करने के नाम पर भोले-भाले लोगों का शोषण करते हैं। ऐसे लोग हमारी प्रकाशित शर्तों के अनुरूप चुनौती स्वीकार करके 1,00,000 पाउंड जीत सकते हैं।’

ब्रिटेन ने हाल ही में फ्रॉडुलेंट मीडियम्स एक्ट, 1951 की जगह नया उपभोक्ता संरक्षण कानून लागू किया है। इस नए उपभोक्ता कानून का मतलब है कि यदि किया गया वादा पूरा नहीं होता है तो ऐसे व्यापारी को कोर्ट में घसीटा जा सकता है। मोहम्मद का पहला ऐसा मामला है जिसे वादा पूरा करने में विफल रहने पर जेल की सजा दी गई है।
विश्वास है इस पर रखेंगे अपने विचार
जय जोहार.....................

2 टिप्‍पणियां:

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

साहेब बंदगी साहेब.

ललित शर्मा ने कहा…

बनगी साहेब