आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

रविवार, 14 मार्च 2010

हो रहा है पौ बारा

ब्लॉग की तकनीकी जानकारियाँ हमें नहीं है.  नहीं है कहना गलत होगा. वास्तव में हमने जानकारी प्राप्त करने की कोशिश नहीं की है.  यह तो कृपा है हमारे ब्लॉगर मित्रों का विशेष रूप से श्री ललित भाई साहब का जिन्होंने इतना सजा धजा दिया.  यह बात हम इसलिए लिख रहे हैं कि आज सुबह दर्शन किये ब्लॉग देवता के पाया "हवाला 12 " बात थोड़ी समझ में आयी कि ये हवाला 12 भी खेल होगा न्यारा. क्योंकि भाई ललित है न हमारा प्यारा. बस इस जगत में बजने न पाए हमारा बारा. भले लोग कहने लगें कि वाह गुप्ता जी ऐसे ही सिद्धो में तुम्हारा तो हो रहा है पौ बारा. 
जय जोहार.......... वैसे अपनी बालकनी (खोपड़ी) का इस्तेमाल करके थोड़ी थोड़ी तकनीकी जानकारी प्राप्त करने का प्रयास करेंगे और अमल में लायेंगे.
जय जोहार ......

3 टिप्‍पणियां:

ललित शर्मा ने कहा…

गुप्ता जी गोठ हवे निराला
पासा फ़ेंके होगे 9-2ग्यारा
चौसर मा दाना गिरिस त
होईस भैया तोर पौ बारा

जय हो

Udan Tashtari ने कहा…

ललित भाई की जय..अच्छा सजा दिया उन्होंनें. बधाई.

मनोज कुमार ने कहा…

जय हो।