आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

शनिवार, 25 जुलाई 2015

जनता और मुखिया

जनता और मुखिया 

जनता मुखिया भेजती, मंदिर संसद जान।
झगड़त स्वान बिलार सम, बिरथ जतावत शान।।

जय जोहार ....