आईए मन की गति से उमड़त-घुमड़ते विचारों के दांव-पेंचों की इस नई दुनिया मे आपका स्वागत है-कृपया टिप्पणी करना ना भुलें-आपकी टिप्पणी से हमारा उत्साह बढता है

रविवार, 16 मई 2010

आगे अक्ती तिहार अउ भगवान् परशुराम जयंती

                                      भगवान् परशुराम जी की जय 
जम्मो झन ला भगवान् परशुराम जयंती के गाड़ा गाड़ा बधाई 
अक्ती तिहार। इही हा ओ दिन आय जेमा महूरत फ़हूरत नई देखे जाय। पुतरी पुतरा के बिहाव तो ठीक हे, ए दारी तो अब्ब्ड अकन बिहाव हे जी। एखर अलावा एखर महिमा अउ हे। इहिच दिन मा भगवान परशुराम के जनम दिन मनाये जाथे। वैसे भी हमर देश सर्व धर्म समभाव के विचार करत आनी बानी के परब मनाथे। सोचे जाय त रोजेच तिहार हे। ग्रन्थ, वेद,  पुरान  हा हमर सन्सक्रिति हा तिहार बार ले  भरे हे। थोकिन दिन मा आ जाही रथ जात्रा, हरेली,  राखी, दशहरा देवारी…………। अकति के दिन के  तिहार के नाव ले बचपन के सुरता आ जाथे। हमर ममा मामी इंहां रात के पुतरी पुतरा के बिहाव करैं। पहिली बिहनिया ले घर माँ बडे मटका जेला करसी घलो कथें ओमा अउ  ओखर संगे संग  छोटे छोटे चुकिया मा  चुकिया मा  आमा अउ कांदा (शकरकंद) डार के पूजा होवे. अक्ती के दिन ले मटका के पानी पियाई शुरू होवे.  अब सूरज भगवान् हा  धरती माँ अंगरा फेंकत हे त अक्ती के अगोरा नई करन शुरू  हो  जाथे करसी के पानी पियाई चईते महीना ले. अरे हाँ जलवायु ला देख के खाए पिए के घलो कैसे बेवस्था बने रहिसे पहिली. अक्ती के दिन ले ही चना अउ गंहू ला भूंज के पिसाये पिसान ला जेला सतुआ कथें खाय के दिन शुरू होवे. ये सतुआ हा पेट बर हे  बड़ा फायदेमंद. एखरे ऊपर ले एक ठन कहानी याद आगे. बानी अउ भाखा के का परभाव परथे.  दू झन राहगीर रेंगत रेंगत अपन कोनो गाँव जात रहैं.  एक झन मेर सतुआ रहै अउ एक झन मेर धान.  धान वाले हा सोचिस मोला भूख लगही त कैसे करिहौं. धान ला कुटाना पकाना बड़ पिचकाट. बड़ चतुरा.  ओला  सूझिस काबर न सतुआ वाले मेरन ले सतुआ ले जाय. कैसे भाखा के परयोग करिस ध्यान देहु ; कहत हे सेतुवा वाले ल  "सतुआ खाए बर बड़ मेहनत हे; सतुआ मन मेतुआ जब घोरब जब घारब तब खाब तब जाब. धान बिचारी भली कुटी खाई चली. अड़हा हा अपन सतुआ ला दे दिस धान वाले ला. बज गे ओखर बारा. धान वाले के होगे वारा  न्यारा. तौ भैया इही गोठ संग अक्ती के गाड़ा  गाड़ा बधाई. जम्मो नवा जोड़ी बनईया मन ला उंखर सुग्घर जिनगी के बधाई. भगवान् परशुराम ला परनाम करत ..............
जय जोहार. 
16/05/2010            

2 टिप्‍पणियां:

ललित शर्मा ने कहा…

जोहार ले,
भगवान परशुराम जयुंती के गाड़ा-गाड़ा बधई

तैं बने सुरता देवाय हस तिहार के भाई

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

भगवान परशुराम जयंती अवसर पर सभी ब्लागर भाई बहिनों को हार्दिक शुभकामनाये .